CAG के अनुसार वीरभद्र सरकार ने 20,000 करोड़ रुपये के ऋण को विकास के बजाए घोटालों की भेंट चढ़ा दिया

show more
Upvotes (1)
Comments
Sorted by:
Load more comments
Download the Vidme app!